Blog

#AnikulPoetry

“chāñd sā misra akelā hai mire kāġhaz par
chhat pe aa jaao mirā sher mukammal kar do”
Bashir Badr

बद्र की ये शायरी नज़रों पे अमल हुई,
दिल ने गुफ्तगू की और ये ग़ज़ल हुई,
बशीर ही जाने, कितनी मुकम्मल हुई !!

अनिकुल का बद्र को शुकराना

मुश्किल लफ़्ज़ों के मायने:

मिसरा: शेर का पहला वाक्य
मुकम्मल: पूरा हो जाना
महज़बीं: चांदनी
मौशिकी: संगीत (दर्द भरा )
पैबस्त: छाई हुई (चारो तरफ)
शब-ब-खैर: रात अच्छी गुजरे

‘मनुष्य की इच्छाएं’ या ‘इच्छाओं का मनुष्य’

इच्छाओं का ‘क्यों’ नही होता। उनका ‘कब’ होता है, ‘कहाँ’ होता है, यहां तक कि ‘कैसे’ भी होता है। पर नही होता है तो ‘क्यों’। इच्छाएं होती है ‘आदम’ सी। उनका ‘पता’ तो पता होता है, पर नही पता होता है तो उनका ‘कारक’। वो क्यों जन्म लेती है- ये अज्ञात ही है; जैसे मनुष्य क्यों जन्म लेता है, ये है अब तक अबोध !!

हज़ारों , लाखो इच्छाएं, जैसे हज़ारो, लाखो मनुष्य !! पता नही इस पृथ्वी पर मनुष्य ज्यादा हैं या इच्छाएं !! और क्या पता हम मनुष्य भी इच्छाएं ही हो किसी की !! किसी विराट की !! हम लाखों- करोड़ों मनुष्य, किसी विराट की लाखों-करोड़ो इच्छाएं !! और फिर इन लाखों मनुष्य की लाखों इच्छाएं !! लाखों के ‘आधार’ (base) पर लाखों का ये ‘घातांक’ (exponent), गणित का अंकीय ‘विराट’ है या उस ‘विराट’ का गणितीय ‘अंकन’- पता नही।

इच्छाएं जूझती है सिर्फ अपने ‘क्यों’ से। पर मनुष्य वो ‘इच्छा’ है जो न केवल अपने ‘क्यों’ से जूझता है बल्कि जूझता है अपने ‘कौन’ से भी ?? ‘मैं क्यों हूँ और मैं कौन हूँ ???’- ये वो दो सवाल हैं जिसने अध्यात्म की आधारशिला रखी और इन दोनो सवालों से जूझते हुए मनुष्य ने देवता से लेकर ईश्वर तक का अविष्कार कर डाला !! पर फिर भी वो कोई पुख्ता जवाब न पा सका।

मनुष्य कौन है ?? क्या किसी की इच्छा और फिर उस इच्छा की इच्छा का ‘समुच्चय’ ही मनुष्य है ?? संभवत: !! मनुष्य इच्छाओं का ‘फलन’ (function) ही तो है। इच्छाओं का ‘पिता’, इच्छाओं का ‘पुत्र’, इच्छाओं का ‘स्वामी’ और इच्छाओं का ‘दास’ !! या इनमे से कुछ न होकर, इच्छाओं के ‘multiplexing’ का माध्यम ( electronic और logic circuit के भाषा मे MUX) मात्र है ??!! शायद हाँ !! और इसलिए ‘मनुष्य की इच्छाएं’ जैसी कोई चीज़ नही होती, होता है तो होता है ‘इच्छाओं का मनुष्य’ !!

अनिकुल के कलम से

Agriculture, Farmers & Land Aquisition Bill

This article however was written in reference to Land Acquisition Bill, 2015; analysis given in this article on Agriculture as a sector of economy , fate of farmers in this country and possible solutions of reviving farming again as an affordable economic activity- makes it readable even today’s times.

There has been much clamor on government proposed new LAB (Land Aquisition BIll) in recent time. One dvantage this clamor has brought, is back of issues relating to agriculture as a sector & farming as an occupation, into prime notice of public and intellectuals. However, unfortunately present direction of debate in the issue is primarily emotional, politics-driven & factually-disabled rather than logical, rational & fact oriented (as it ought to be). Most of the discussions happening in this regard, are ignoring not only “Big Picture” of economy but intrinsic issues of agriculture being faced by farmers today.

Agriculture sector:Then & Now

India, traditionally, is believed to be an agricultural economy. Some economists say it is still the case while some reject it passionately. Why such a confusion on a fundamental idea like this ?? The answer lies in data. Agriculture as a sector contributes only 14% in GDP while engages 56% of the population of country. So productivity wise India is no longer an agricultural economy while employment wise it is still so. And here lies the great misery of both- the indian economy and agriculture sector. Economy suffers from hidden unemployment, loss of productivity & imbalance in allocaton of human resource across it’s sectors due to it. While farming due to burden of it’s excessive dependents, doest not remain economical, productive & profitable. There are offcourse other reasons as well, which hit farming; but this hits it hardest. While a distant tribe of 100 people, does not deploy 56 persons for preparing food while leaving only 44 persons for fulfilling other need of the community, as a civilised and advanced economy we must show maturity at this level minimum.

Farmers: Facing a double-edge sword

India is an unique part of land where farmer comes to same pathetic state – when there is no crop in the season & when his seeds do excessivelly well in field !! When crops get destroyed, it is quite understand-able that farmer gets setback because on non-recovery of the cost he has invested. But he returns to same fate when crops in field do well in general. Because in latter case farmers face ruthless law of demand & supply. Due to excessive supply while demand being as it is- grain prices drop. And again farmer finds it difficult to recover the cost, leave profit. There are largely three reasons behind this ironic condition:

Firstly, as indicated earlier, here in India 56% of people feed rest 44%. As a result market gets a type of “monopoly” over farmers, rather than farmers getting “monopoly” over market. Majority is an idea which may bring favour in politics, but in business it invites all un-fovourability.

Secondly, Our food supply chain is largely “local” in nature due to absence of basic infra. And with negligible storage infra, farming relies on instant demand-supply equations which adds to the crisis.

There is a third factor as well, we will discuss in next section.

Government’s Dilemna:

Not only farmers but governments also finds itself grinding between two parts of a mill while dealing farmer’s issues. Because if it allows farmers to recover cost+ some profit, food inflation rises. A limitedly resourceful consumer refuses to pay for it. Following chaos of inflation,finally government has to intervene. Eventually it is farmers who get the load. And here is the third factor hidden, we indicated in previous section. As stated, unbalanced allocation of human resource hits national productivity hard. Less productivity brings less prosperity, less money to people. This in turn makes a weak consumer base for agriculture who can not afford higher food prices at times to let farmer recover his investment+ some profit.

The way for Resolution

First and foremost, we need to release pressure of excessive dependents on agriculture. This as explained earlier, will not only help agriculture sector alone but overall economy in terms of productivity, prosperity & richness. Now question arises- where to re-engage this released manpower. Answer is in indusries & enterprises. In increased industries. These increased industies will not only absorb the released manpower but also boost our national productivity & prosperity with making a more rich consumer base for agriculture as a by-product.

Secondly, agriculture can never be profitable and will never be unless there is good infrastructure to support it. Broad highways to connect farms to consumer centers, good and big enough cold stores to stock agricuture products, big canals to make irrigation reliable; along with a rich, resourceful consumer base who dosn’t mind to pay at times some extra notes to fulfill his need of stomach, to cover cost+ smart profit for farmers.

LAB in Scene

All above solutions require land. Land to develop supporting infra, to make roads, to make dams, to make canals, to make cold stores and as well to make industry. And LAB comes as a tool for that. LAB is not anti-farmer in any sense. Infact it is the only tool, with which existing problems of agriculture can be eredicated effectively. It as any life-saving medicine, may taste bitter initially, but will boost health of currently sick and over-burdened agriculture sector, in long run.

By

Abhinav Shankar

The evolution of Polity

तमाम बदनामियों के बावजूद राजनीति (अर्थशास्त्र के बाद) मानव समाज का सबसे महत्वपूर्ण और प्रभावकारी विषय है, लगातार बना हुआ है। ब्रिटानिया के brexit और अमेरिका में राष्ट्रपति ट्रम्प के विजय से लेकर इजराइल में नेतन्याहू का लगातार मजबूत होते जाना- इन घटनाओं ने विश्व को जितना प्रभावित किया है शायद ही किन्ही और घटनाओं ने किया हो। राजनीति आज भी समाज को सबसे ज्यादा करीब से प्रभावित करती है। राजनीति को अगर सबसे कम शब्दों में बताया जाये तो ये समाज के अन्यथा बेतरीब क्रियाकलापों को एक सार्थक और स्पष्ट दिशा देने की जुगत है। और राजनीति के सबसे समाचीन और शायद सबसे उन्नत उपकरण के रूप में लोकतंत्र मुझे सबसे ज्यादा आकर्षित करता है। एक fan के तौर पर नही। बल्कि एक case study के तौर पर। लोकतंत्र अपने आप में एक रोचक चीज़ है। इसका इतिहास भी, और इसका क्रमतर विकास भी।

शायद ही इसमें कोई दोमत होगा की फिलहाल लोकतंत्र राजनीति का सबसे उन्नत और परिपक्व उपकरण है। और सबसे delicate भी। लोकतंत्र एक बृहद मनुष्य समाज के तौर पर हमारे collective conscious के क्रमतः परिपक्व होने की कहानी है। जैसा की राजनीति चूँकि वस्तुतः समाज के बेतरीब क्रियाकलापों को एक दिशा देने की क्रिया थी हमने एक समाज के तौर पर अपने सामूहिक विवेक के विकास के शैशव काल में एक व्यक्ति के हाथ में इस दिशा को निर्धारित करने का काम delegate कर दिया। कालान्तर में ये monarchy जैसी संस्था में तब्दील हो गयी। जो अपने साथ ‘सत्ता’ का जबरदस्त केंद्रीकरण लेकर आई। “सत्ता”- यानि राजनीति का एक organic विस्तार। राजनीति जब फलीभूत होती है तो सत्ता के तौर पर सामने आती है।

अब जैसे जैसे हमारी कलेक्टिव कॉन्शियस का विकास हुआ हमने महसूस किया कि सत्ता का ये केंद्रीकरण समाज के स्वस्थ growth को एक तरह से रोक रहा है। तब राजा का साथ देने वाले मात्यों के सलाह को राजा के लिए बाध्यकारी कर दिया गया। फिर मात्यों को जनप्रतिनिधियों से replace कर दिया गया। फिर एग्जीक्यूटिव हेड और नॉमिनल हेड ऑफ़ गवर्नमेंट की अवधारणाएं आयी और हम नॉन-रिपब्लिकन डेमोक्रेसी की तरफ बढ़ें। फिर नॉमिनल हेड को भी जनता से चुना हुआ बनाया गया और हम रिपब्लिकन डेमोक्रेसी की तरफ फाइनली बढे। हमने महसूस किया कि सत्ता का जितना विकेंद्रीकरण किया जा सकें उतना अच्छा है। और हम क्रमशः उस दिशा में बढ़ते चले गए। अब तो referendum democracies की बात की जा रही है जहाँ हर छोटे बड़े इश्यूज पर लोगो की वोटिंग से ही फैसला किया जाये। यानी की सत्ता का पूर्ण विकेंद्रीकरण।
पहली नज़र में बड़ी अच्छी लगने वाली ये बात अपने साथ एक बारीक पेंच लेकर आती है। सोचिये की आखिर सत्ता ने समाज में अपनी जरुरत ही कैसे बनायी होगी ? जाहिर तौर पर राजनीति के जरुरत के तौर पर क्योंकि आखिर ये राजनीति का ही ‘आर्गेनिक’ विस्तार है। और राजनीति की जरुरत क्यों महसूस की गयी होगी ? क्योंकि अन्यथा समाज के असंगठित क्रियाकलापों को एक दिशा की जरुरत थी जो समाज के विकास के लिए जरुरी थी। सत्ता का पूर्णतः विकेंद्रीकरण हमें वापस उसी दशा में ले जाता है जहाँ ‘दिशा’ के लोपन का खतरा होता है। इसलिए सत्ता का एक निश्चित केंद्रीकरण भी समाज के सुचारू चलन और विकास के लिए उतना ही जरुरी है।

अनिकुल के कलम से

पत्रकारिता की राजनीति

दैनिक ‘हिंदुस्तान’ के प्रधान संपादक शशिशेखर के हिंदी ब्लॉग्स मैं अक्सर पढता हूँ। हिंदी celebrity पत्रकारिता जगत के कुछ विचारशील ब्लॉग्स में उनका ब्लॉग अवश्य आएगा, ndtv वाले रविश कुमार के बाद। अगर बाकी बहुत सारे ‘celeberities’ की तरह न होकर वो अपना ब्लॉग खुद लिखते हैं तो वो जरूर बधाई के पात्र हैं।

इस बार वो उत्तर प्रदेश के आगामी चुनाव के बारे में बोल रहे थे। उससे ज्यादा सपा में फैले पारिवारिक कलह पर। इस ब्लॉग में उनका एक विशेष आग्रह इस बात को स्थापित करने में रहा की उत्तर प्रदेश की राजनीति की सफलता ही देश की राजनीति में सफलता होने का पर्याय है। देश की राजनीति, उत्तर प्रदेश की राजनीति की अनुगामी है। इस कथ्य में, इस तथ्य में सामान्यतः तो अनुचित कुछ भी नही है। राजनीति के सन्दर्भ में तो बिलकुल भी नहीं। लेकिन इस तथ्य को लिखते समय शशि शेखर जी का ध्यान इस बात पर पता नही गया होगा या नही की देश के सबसे बड़े हिंदी अख़बार के प्रधान संपादक के पद पर उनका सुशोभित होना भी क्या राजनीति के एक चलन की पत्रकारिता के द्वारा अंधी अनुगामिता ही थी ?

एक लोकतांत्रिक देश में राजनीति लोकतंत्र का एक फलन होती है। ये उसकी स्वाभाविक गति है। इसलिए राजनीति में देश की सबसे बड़ी आबादी को अपने कोख में रखने वाला प्रदेश अपने मूड के हिसाब से देश भर कीे राजनीति की दिशा और दशा निर्धारित करे तो वहाँ तो ये स्वाभाविक लगता है और सुखद भी। किंतु पत्रकारिता भी इसी चलन का शिकार हो जाए तो वो दुखद है। बल्कि त्रासद। हालांकि राजनीति में भी democracy और meritocracy का एक द्वन्द रहता ही है। पर लोकतंत्र का ये श्याम पक्ष राजनीति के सन्दर्भ में इसके बाकी उज्जवल पक्षों से छुप जाता है। और कई बार नही भी। वर्तमान में कांग्रेस पार्टी की बदहाली के मूल में भी वस्तुतः यही द्वन्द है। राहुल गाँधी कांग्रेस के अंदर सबसे ज्यादा स्वीकार्य तो हैं पर योग्य नही। लोकतंत्र का ये श्याम पक्ष उसके बाकी उज्जवल पक्षों पर भारी न पड़ जाये इसलिए दुनिया भर के polity thoughts में लोकतंत्र को अपनाते समय कुछ safeguards रखे गयें। bicamerialism और special minority rights जैसी व्यवस्थाएं दरअसल यहीं तो हैं।

और इसलिए प्रमोद जोशी जैसे लोगो के रहते अगर शशि शेखर पत्रकारिता में आगे बढ़ते हैं तो ये समझ आ जाता है कि पत्रकारिता जब राजनीति की अनुगामी बनती है तो वो राजनीति से ज्यादा भ्रष्ट होती है क्योंकि राजनीति में तो कुछ safeguards भी नैसर्गिक रूप से विद्यमान रहते हैं पर पत्रकारिता वहां पर भी मात खा जाती है । बहुमत की प्रधानता राजनीति के लिए तो वरदान है पर पत्रकारिता के लिए अभिशाप। और फिलहाल देश की पत्रकारिता इस दृष्टि से अभिशप्त है। शायद ये हमारे देश के पत्रकारों का राजनेताओं केे साथ अनावश्यक और अधिक्यपूर्ण संगत का नतीजा हो।

इंडियन मुस्लिम पेज पर “राम” नाम को लेकर भड़काने वाला भ्रामक प्रचार

ऐसा लगता है कि कुछ मतान्ध और कट्टर मुस्लिमों ने फेसबुक पर मिथ्या-प्रचार का अभियान छेड़ रखा है. इनमें इंडियन मुस्लिम नामक पेज सबसे आगे है. ऐसे ही अपने एक पोस्ट ([LINK=https://www.facebook.com/IndMuslim/posts/417529895027279#!/IndMuslim/posts/417529895027279]https://www.facebook.com/IndMuslim/posts/417529895027279#!/IndMuslim/posts/417529895027279[/LINK]) में ये पेज “राम” नाम पर हिन्दू आस्था पर भ्रामाकपूर्ण तथ्यों के जरिये भड़काने वाला चोट करता है.

पूरे पोस्ट को पढ़ कर (Screenshot नीचे दिए गए हैं) आपको पेज के एडमिनों के इतिहास और दर्शन के ज्ञान को लेकर हंसी भी आएगी और उनके दूषित मानसिकता को लेकर रोना भी आएगा। पूरे पोस्ट के विषय-वस्तु को पढ़कर ये साफ़ पता चल जायेगा कि इसमें कितने झूठ और प्रपंचों का सहारा लेकर राम नाम के प्रति जानबूझ कर वैमनस्य फैलाया गया है. साथ ही शातिराना तरीके से पोस्ट को लिखने वाले का नाम हिन्दू-पहचान के साथ दिया गया है. जबकि इस पेज का कोई एडमिन अपनी पहचान सार्वजनिक नहीं करता.

[IMG]http://bhadas4media.com/old1/images/b4m5bday/0fbim.jpg[/IMG]

अब जहां तक इस पोस्ट में उल्लेखित अर्थी-यात्रा में “राम नाम सत्य है” के उद्घोष का सवाल है तो ये सबको पता है कि अर्थी-यात्रा का प्रयोजन ही लोगों के मानस को ये सन्देश देने का है कि मनुष्य-जीवन क्षणिक है, क्षण-भंगुर है और जिसकी अंतिम परिणिति मृत्यु ही है यानि अंतिम सत्य मृत्यु ही है. इसी क्रम में ऐसे उद्घोष की आवश्यकता पड़ी जो ये सन्देश सीधा और बेबाकी से दे सके. “मरा (मृत्यु) सत्य है” – ऐसा ही उद्घोष था. चूँकि सनातन दर्शन अपने स्वभाव से ही विनीत और उदार रहा तो मृतक के अंतिम यात्रा में ऐसे कठोर शब्द का सीधा उपयोग भी थोड़ा अनुचित प्रतीत हुआ. और फिर “मरा” शब्द का स्थान “राम” को दे दिया गया. शब्द तो उल्टा हो गया लेकिन भाव और उद्घोष का सन्देश वही समझा और रखा गया.

वैसे भी यदि मरा-मरा शब्द का निरंतर जाप किया जाये तो वो राम-राम हो जाता है. साथ ही इससे दो उद्देश्य एक साथ साध गये. पहला तो सन्देश भाव में यथावत रहा और साथ ही उसे राम जैसे कल्याणकारी और कर्णप्रिय शब्द का सहारा भी मिल गया. तथा मरा और राम शब्द के बीच के इस सम्बन्ध का परिचय हर हिन्दू बालक को तुलसीदास के उस कथा से दिया जाता है, जहाँ मरा-मरा का जाप करते करते वो राम-राम कहने लगे थे. अब इससे कोई ये अर्थ निकाल ले की राम शब्द अशुभ और और अपवित्र है तो उसपे दया ही आ सकती है. ऐसा लिखने वाले ये भी भूल जाते है कि हिन्दू अपने हर कार्य के शुभारम्भ और अभिवादन में जय श्री राम ही कहते हैं. लेकिन कुछ मदरसों के बाहर बंटने वाले दो पृष्ठों के पम्लेट के सहारे ज्ञानी बनने वालों से अपेक्षा भी क्या की जा सकती है.

उसी तरह बात आती है दलितों के अपने उपनाम को राम रखने पर. इस पर अपना ज्ञान बघारने वालों को थोडा इतिहास पढ़ना चहिये. ये कोई बहुत पुरानी बात नहीं है जब दलितों ने अपना उपनाम “राम” रखना शुरू किया. और ये नतीजा था महात्मा गांधी के उस क्रांतिकारी और परिवर्तनकारी जाति- और छुआछुत निषेध आन्दोलन का जिसमें उन्होंने सैकड़ों वर्षों से उपेक्षित रहे समाज के एक वर्ग को जो दलित कहलाता था, को “हरीजन-  इश्वर के जन” कह कर बुलाना शुरू किया था. और इसी क्रम में हरिज़नों को, दलितों को राम तथा कृष्ण जैसे हिन्दू आस्था के ईश्वरीय आत्माओं के नाम पर अपना उपनाम रखने का अनुरोध हुआ, आग्रह हुआ. अब कोई इसे राम और कृष्ण शब्द के अपवित्र होने के अशुभ हो जाने के रूप में देखता है तो इससे पता चलता है कि वो खुद कितना बड़ा जातिवादी सोच का है, कितनी दूषित मानसिकता का है. साथ ही ये भी पता चलता है कि देश के इतिहास का उसे कितना ज्ञान है, कितना भान है. यहाँ फिर वही बात आती है की कुछ मदरसों के बाहर बंटने वाले दो पृष्ठों के पम्लेट के सहारे ज्ञानी बनने वालों से अपेक्षा भी क्या की जा सकती है.

फेसबुक ने ऐसे लोफरों, आवारागर्दों और डपोर-शंखों जिन्हें न इतिहास का कोई इल्म है न दर्शन का; की बातों को एक बेहद विस्तृत माध्यम दे दिया है जो चिंता की बात है. और उससे भी चिंता की बात ये है कि ऐसी बातें करने वाला पेज खुद को भारतीय मुस्लिमों का प्रतिनिधि बतलाता है. मुझे पूरा विश्वास है की भारतीय मुस्लिम समाज के वाजिब इल्मदार इस तरह के वाहियात और अधकचरे बातों से इत्तेफाक नहीं रखते होंगे और समाज में घृणा और असत्य फैलाने वाले इस तरह के कुत्सित प्रयासों का कतई समर्थ नहीं करते होंगे. लेकिन ऐसे पेजों को मिले सवा लाख लाइक्स मेरे इस भरोसे को कहीं न कहीं कमज़ोर भी कर रहे हैं.

(ये आर्टिकल मूलतः यहाँ प्रकाशित हुआ था)

सत्यमेव जयते एवं जिंदगी लाइव को भी है सुधार की आवश्यकता

कल ‘सत्यमेव जयते’ देख रहा था।हरीश अय्यर को देख थोडा अटपटा लगा। अभी अभी दो हफ्ते पहले उन्हें ‘ज़िन्दगी लाइव’ में देखा था- गे स्पेशल में। वहां ये कह रहे थे की बचपन से ही उन्हें और लडको की तुलना में थोडा अजीब फील होता था।१५ साल की उम्र में ही उन्हें इसका एहसास हो गया।उसके बाद ही उन्होंने ये तय कर किया की वो जैसे हैं वैसी ही जिंदगी जियेंगे और अपने घरवालों को भी बताएँगे। मुझे याद है ऋचा अनिरुद्ध के एक सवाल के जवाब में उन्होंने बड़ी साफगोई से कहा था – I love men and whats wrong in it।As of now i love a man and he loves me too।We are in a happy relationship।I m very happy। उनकी माँ भी वहां थी।और उन्होंने भी कई बातें बतायी। कहा की ये हमेशा हमसे कुछ कहना चाहता था लेकिन कह नहीं पाता था और हम समझ नहीं पाते थे।

इन्ही माँ-बेटे को कल सत्यमेव जयते में देखा। अलग रूप,अलग अंदाज़, अलग आवाज़। यहाँ हरीश ने कहा की उन्हें बचपन से ही ऐसे अनुभव से गुजरना पड़ा जिससे लगभग १७ सालों तक इनके जीवन में सन्नाटा रहा। इन्हें पुरुष वर्ग से डर लगने लगा, नफरत हो गयी की हर कोई उनके साथ ऐसा ही करेगा। इनकी माँ यहाँ भी इनके साथ थी।

जिन्होंने भी ‘ज़िन्दगी लाइव’ और कल का ‘सत्यमेव जयते’ दोनों देखा होगा उन्हें ये ये दोनों बातें परस्पर-विरोधी लगी होंगी,अटपटी लगी होंगी, थोड़ी अटपटी है भी। अटपटी इसलिए भी है की खुद हरीश दोनों शो में दो बिलकुल अलग अलग व्यक्ति के रूप में उभर के सामने आये। ‘ज़िन्दगी लाइव’ में इनके बचपन से सम्बंधित भी कई बातें पूछी गयीं लेकिन इन्होने कभी ऐसे किसी घटना का जिक्र नहीं किया, नाही इनकी माँ ने किया जबकि दोनों बातें एक दुसरे से जुडी थी। विषयनिष्ठ नजरिये से देखा जाये तो ये दो मुद्दे (समलैंगिकता और बचपन में किसी व्यस्क द्वारा गुदा-यौन-शोषण जैसा हरीश ने बताया) आपस में बेहद जुड़े मुद्दे है। अपने समय के सबसे मशहूर मनो-विज्ञानी सिगमंड फ्रायड ने अपने प्रसिद्ध रिसर्च पेपर-Three essays on the theory of sexuality (Published in 1905) में साफ़ बताया है की समलैंगिकता ऐसे किसी शोषण का फल हो सकती है।

सेक्स-सायकोलोजी की बाद की रिसर्च ने भी इस सिद्धांत की पुष्टि की है जैसे होमोसेक्सुँलिटी के सबसे प्रमाणिक-Lewes के रिसर्च ने (Published in 1988)। दुःख इस बात का है की दोनों ही शोज़ ने इतने महतवपूर्ण कोण को अपने-अपने कार्यक्रम में कोई जगह नहीं दी। अगर ‘ज़िन्दगी लाइव’ जैसे प्रतिष्ठित टॉक शो में समलैंगिकता जैसा महत्वपूर्ण मुद्दा उठता है और इतना  महत्व का कोण छोड़ दिया जाता है तो दुःख होता है। उसी तरह सत्यमेव जयते जो खुद को एक परफेक्ट शो के रूप में प्रचारित करता है और लोग भी इसे ऐसा ही मानते रहे है, से भी ये कोण छुट गया तो अजीब लगा। अजीब इसलिए भी लगा की खुद हरीश व्यक्तिगत स्तर पर भी इन दो शो में अलग-अलग व्यक्ति के रूप में नज़र आयें। कम से कम हरीश को व्यक्तिगत तौर पर शो के करता-धर्ताओं के इतर जा कर दोनों चीजों को साथ जोड़ कर रखना चाहिए था। उससे न केवल लोग विषय को गहन रूप से समझ पाते बल्कि समलैंगिक लोगों के प्रति समाज की संवेदना भी बढती,वही दूसरी ओर बाल-यौन-शोषण के दीर्घ-कालिक प्रभाव भी लोग समझ पाते। बड़ा अफ़सोस हुआ की इतने बड़े मौके को गवां दिया गया।

इसका एक कारण ये हो सकता है की ऐसे शोज़ में जाने के लिए प्रतिभागियों को कुछ न कुछ पैसे जरुर मिलते है।कई बार ये रकम अच्छी खासी होती है। तो हो सकता है इस कारण बिलकुल पेशेवर तरीके से हरीश ने दोनों शोज़ को ही अँधेरे में रखते हुए प्रतिभागी बन गए हो और अपने जिंदगी के दो अलग-अलग तथ्यों को अलग-अलग बेच आयें हो। अगर ऐसा है तो ये गंभीर है। दोनों ही शो, पूरे देश में चेतना के प्रवाह बन चुके है।जिंदगी लाइव ने कुछ सालों में तो सत्यमव जयते ने कुछ दिनों में हो लोगो के दिलों में अपने लिए जगह बना ली है। अगर ऐसे शो, रिअलिटी शो जैसे तिकड़मो के शिकार बन जायेंगे तो इससे लोगो का भरोसा इस कदर टूट सकता है की फिर मीडिया का कोई जन-जाग्रति शो कभी लोगो के दिलो में पैठ नहीं बना पायेगा।

ऐसा भी हो सकता है की दोनों ही शो के लोगो को हरीश की जिंदगी की ये दो ही बातें मालूम हो लेकिन ‘विषय-वस्तु की जटिलता के बढ़ जाने’ जैसी पेशेवर मजबूरियों के कारण बड़ी चालाकी से, बड़े पेशेवर अंदाज़ से अपने अपने मुफीद चीजें चुन ली गयीं। और अगर ऐसा हुआ है तो ये और भी गंभीर बात है। क्यूंकि सामाजिक विषयों के प्रति लोगो की समझ को और गहन, विस्तृत और विवेचनात्मक बनाने के उद्देश्य से ही बनाये गए इन दोनों शोज़ ने महज ‘प्रस्तुतीकरण की सुविधा’ के लिए दो अलग अलग ज्वलंत विषयों के संभव अंतर-संबंधो को देख पाने के एक बड़े अवसर से दर्शको को वंचित कर दिया। वरना बिना विवरणों में जाये उल्लेख मात्र के लिए ही ‘ज़िन्दगी लाइव’ में उनके बाल-शोषण की बात दो लाइनों में डाल दी जाती और उसी तरह ‘सत्यमेव जयते’ में उनके समलैंगिक होने की बात महज़ एक तथ्य के रूप में सामने रख दी गयी होती तब भी यह सुधि दर्शको का ध्यान इस ओर दिलाने के लिए पर्याप्त होती। कहीं-न-कहीं लोगों के मानस को ये तथ्य अपील करते और देर-सबेर लोगो का ध्यान इन अंतर-संबंधो की तरफ जाता।

हालाँकि सबसे अच्छा तो यही होता की हरीश के मामले में विशेषज्ञों के राय के जरिये इस बात को बाकायदा दर्शको के सामने रखा जाता। यदि अलग अलग विषय के ‘फोकस’ को बरक़रार रखने के तर्क को मान कर ऐसा नहीं भी किया गया तो उपरलिखित तरीके से उल्लेख करना तो आवश्यक था ही। ऐसा भी न करके दोनों ही शोज़ ने अपने अपने विषय और दर्शको दोनों के साथ अन्याय किया है। और जब इस तरह मुख्य-धारा की मीडिया ‘पेशेवर मजबूरियों,पेशेवर दबावों’ का हवाला देकर विषयो को पुरे तरीके से नहीं समेट पाती,अलग अलग विषयो को जोड़ कर लोगो के सामने बड़ी तस्वीर नहीं पेश कर पाती, तब-तब वैकल्पिक मीडिया इन कथित ‘पेशेवर मजबूरियों’ और पेशेवर दबावों’ के परे जाकर लोगो को ये ‘बड़ी तस्वीर’ दिखाती है। यही इस लेख का उद्देश्य भी है।

 

(ये आर्टिकल मूलतः यहाँ प्रकाशित हुई थी)

जाँत-पाँत पर, ऊँच-नीच पर तोड़-तोड़ कर,

परम्पराओं को, पुराणों को मोड़-मोड़ कर,

पश्चिमीकरण की अखिल भारतीय आंधी चला,

स्वदेशी को गाँधी की सती बना, चिता जला,

नर-पिशाच वो खडे आज पहन खादी हो गये,

हम हिन्दू अब आतंकवादी हो गये …

 

जिसके प्रतिष्ठा को लड़े-भिड़े, हुएँ खेत शिवाजी,

जिसके लिए महाराणा हुएँ घास खाने को राजी,

जिस लिए पृथ्वीराज ने नृपता त्य‍ागी,वैभव खोया, उस

सनातन धर्म के विनाश का गया आज विष-बीज बोया,

पटेल की कुर्सी पर काबिज कैसे जयचंदवादी हो गये,

हम हिन्दू अब आतंकवादी हो गये…

 

विश्व-शरणार्थी आतंकित पारसियों को दिया अभयदान,

तिब्बतियों ने पाया यहीं विश्व भर घूम जीवन स-सम्मान,

दे कोटि बलिदान विदेशी गुलामी को जैसे-तैसे रोका,

फिर एक विदेशी बहू को सत्ता सहर्ष-निशंक सौपा,

उसी उदारता के हम अपराधी हो गये,

हम हिन्दू अब आतंकवादी हो गये…

 

हिन्दुस्तान है देश तो हिन्दू इसकी कौम है,

शामिल सनातन वाले भी, इसाई औ’ मुसलमाँ है,

हिन्दू यदि आतंकवादी तो फिर तुम कौन हो,

पूछता सारा भारत है, अब क्यों साधते मौन हो,

कलंकित हम आज पूरे 125 करोड आबादी हो गये,

हम अब पूरे एक देश आतंकवादी हो गये…

 

हम हिन्दू अब आतंकवादी हो गये… हम हिन्दू अब आतंकवादी हो गये…

 

(ये कविता मूलतः यहाँ प्रकाशित हुई थी )

 

इस्लामिक क्रांति का रक्त-रंजित इतिहास एवं इसका पुनर्जागरण…

iran afghanistan before islam, Iran before Islamic revolution, radicalism, liberal culture of Iran and Afghanistan

ईरान और अफगानिस्तान के इस्लामिक राज्य बनने के पहले की तस्वीरें विचलित कर देती हैं। एक अच्छी और फलफूल रही सभ्यता का अचानक से बर्बर आक्रमणकारियों के हत्थे चढ़ पूरी तरह खत्म हो जाना किसी भी सभ्य समाज के नागरिक को सकते में डाल सकता है। साथ ही इस बात की जरुरत को बताता है की इस तरह के चीजों के दोहराव से बचने के लिए इस बात पर सतत निगाह रखी जाये की विश्व में फिर ऐसी परिस्थितियाँ निर्मित न हो पाए और यदि कही हो रही हैं तो मनुष्य-सभ्यता अपने सम्मिलित विवेक से इतिहास के इस तरह के दुहराव को रोक सके।

afghan girlsतालिबानी शासन के पहले अफगानी औरतें ब्यूटी-पार्लर चलाती हुँई / इरान में कार्निवाल का एक दृश्य_इस्लामिक क्रांति से पहले

दुनिया के कई हिस्सों में मानव सभ्यता ने वर्षो के विकास और अनुभव से जो कुछ भी हासिल किया था, जो सफ़र तय किया था, इस्लाम के मतान्ध अनुयायियों ने उसे “सिफर” करते हुए वापस पाषाण-युग में धकेल दिया। अफगानिस्तान और ईरान इसके कुछ नमूने है। इसे इस तरह भी कहा जा सकता है की अरब के घने अन्धकार को जो एक थोड़ी मद्धिम रोशनी मोहम्मद ने इस्लाम के जरिये दी- उस मद्धिम रोशनी को ही परम-प्राप्य मान कर इस्लाम के अंध-मतावलंबियों ने बलपूर्वक कई विकसित और परिपक्व सभ्यताओं के जगमगाते प्रकाश को रौंद डाला और वहाँ उसी तरह के टिमटिमाते रोशनी के साम्राज्य की नींव डाली- इसे ही आज का द ग्रेट इस्लामिक एम्परर या अल-तकिया कहा जाता है।

afghan girlsइस्लामिक कट्टरता ने अफगानिस्तान और इरान के उदार सभ्यता को तहस-नहस कर दिया_तब और अब

इरान के विश्वविद्यालय में छात्रायें_इस्लामिक क्रांति से पहले

7वी शताब्दी से लेकर करीबन 15वीं शताब्दी तक इस्लाम का साम्राज्य-विस्तार ऐसे ही नजरिये से संचालित रहा जिस पर रोक तब लगी जब अरब से तलवार के बल पर संचालित इस अन्याय-पूर्ण साम्राज्य-विस्तार के खिलाफ पूरा यूरोप अपने उस तकनीकी क्षमता के साथ खड़ा हो गया जो उसने पुनर्जागरण से हासिल की। अगले चार सौ साल तक ये अरबिक साम्राज्य-विस्तार रुका सा रहा। यूरोप के आधुनिक तकनीकों और उसके बल पर खड़े किये गये विशाल साम्राज्य ने विश्व-परिदृश्य पर उसके एकक्षत्र प्रभुत्व की स्थापना कर दी- और इन एकध्रुवीय सत्ता-समीकरणों ने अरब से नियंत्रित उस इस्लामिक तलवार को चिर-निंद्रा में सुला दिया जो एक अल्लाह की सत्ता कायम करने अरब से निकली थी।

लेकिन 4 सौ सालों के दौरान यूरोप ने जो कुछ भी पाया था उसका एक बड़ा हिस्सा उसने विश्व-युद्धों में गँवा दिया। इसी के साथ विश्व-सत्ता-समीकरणों ने भी करवट लेनी शुरू की। यूरोप शासित एक-ध्रुवीय विश्व की जगह दो ध्रुवीय सत्ता-समीकरणों ने ले ली जिसके एक तरफ अमेरिका था और एक तरफ रूस। इस दो ध्रुवीय सत्ता व्यवस्था ने उनके बीच के उस द्वन्द को जन्म दिया जिसे दुनिया शीत-युद्ध के नाम से जानती है, और जिसकी परिणिति अंततः तालिबान के जरिये उस इस्लामिक तलवार के “संस्कितिक” रूप से पुनर्जीवित होने में हुई जो लगभग 400 वर्षो के पाताल-वास में था।

अफगानिस्तान की लडकियां- जीवविज्ञान की प्रयोगशाला में

इसी बीच मनुष्य सभ्यता अपने विकास के उस चरण में पहुँच गयी जहां सबकुछ तेल आधारित था। और तेल के स्रोतों की अरब में खोज ने व्यावाहारिक तौर पर विश्व के आर्थिक केंद्र को वापस अरब पहुंचा दिया। विश्व-अर्थव्यवस्था और मानव सभ्यता के परिचालन में तेल की मूल भूमिका ने अरब को विश्व-आवश्यकताओं का केंद्र बना दिया। तालिबान के रूप में सांस्कृतिक पुनर्जीवन पाकर 440 वर्षों से सोये इस्लामिक-“क्रांति” के लिए विश्व-इतिहास में ये अब तक की सबसे स्वर्णिम परिस्थितियाँ थी। कुल मिलाकर चार शताब्दियों पहले तक अरब से नियंत्रित उस इस्लामिक तलवार का फिर से अपने सबसे ताकतवर स्वरुप में अरब से ही संचालन शुरू हो गया। यानि 400 वर्षों बाद फिर से पूरी दुनिया-सारी दुनिया में एक अल्ला की सत्ता को स्थापित करने, अरब के वित्तपोषण से नियंत्रित उसी इस्लामिक तलवार के खतरे से रूबरू है जो अभी इतिहास के अपने सबसे स्वर्णिम परिस्थितियों से गुजर रही है। आतंकवाद से कराहते विश्व के 165 देश इन “स्वर्णिम-परिस्थितियों” के सबसे प्रखर गवाह हैं।

इन सब के बीच भारत की भूमिका, उस पर प्रभाव और भारत को क्या करना चाहिए-
इसकी चर्चा करेंगे इस लेख की अगली कड़ी में…

-अभिनव शंकर

(ये आर्टिकल मूलतः यहाँ प्रकाशित हुआ)